भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

होठ फेर खुलैला / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

च्यारूं कूंट पसरियोड़ी है आज
अटूट-अखूट मून
पण
थे आ ना समझ्या
कै लोग बोलणो भूलग्या है
ऐ होठ फेर खुलैला
   अर फेर सरू हुवैला
ठावी बंतळ !