भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

होती अयाँ विसाल में क्या उस निगार पर / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

होती अयाँ विसाल में क्या उस निगार पर
गुज़री फ़िराक़ में जो दिले- बे-क़रार पर

आता है किस को रंज ग़मे-दोस्तदार पर
खंदा है बर्क़ गिरयाए-अब्र-बहार पर

दुनिया की आफ़तें हैं ग़रीबों के वास्ते
आँधी का ज़ोर है मिरी शम्ऐ-मज़ार पर

गुलशन में आमद-आमदे-फ़सले-बाहर है
बुलबुल क़फ़स में मारती है बार बार पर

हम भी दुआएं करते रहे हैं बहार की
ऐ बागबां हमारा भी हक़ है बहार पर

एहले-ज़माना पर मुतअज़्ज़ब हूँ ऐ 'वफ़ा'
मरते हैं क्यों ये ज़िन्दगी-ए-मुस्तआर पर।