भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

होते हैं रंग हजार / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं ने यह कब कहा
मैं ने नहीं कही यह बात-
हम-तुम एक ।
लेकिन
तुम तक पहुंची जो बात
वह मेरी नहीं
फिर कैसे हो सकता है- अर्थ मेरा ?

जरूरत है इतना-सा जान लें
यह दुनिया है बाजार
और हवा के होते हैं रंग हजार !

अनुवाद : नीरज दइया