भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

होम रन / रित्सुको कवाबाता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: रित्सुको कवाबाता  » होम रन

तड़ाक!
सफ़ेद गेंद उछलती है हवा में !
ज़ोरदार तालियाँ गूँजती हैं
ओह ओ ......
जब गेंद खो जाती है आकाश में .
दर्शक बौरा जाते हैं
लेकिन खिलाडी शांत है
ख़ुशी से झिलमिलाता !
काश लगा पाती मैं एक होम-रन ,
अगर मिलता मौका मुझे भी
मैं उछलती बल्ले को
अपनी पूरी ताकत से !

अनुवादक: मंजुला सक्सेना