भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

होरियसा रँग खेलत आओ / प्रतापकुवँरि बाई

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

होरियसा रँग खेलत आओ.
इला पिंगला मुख मणि नारी ता संग खेल खिलाओ॥
सुरत पिचकारी चलाओ.
काचो रंग जगत को छाँड़ौ साँचो रंग लगाओ.
बाहर भूल कबौं सत् जाओ काया-नगर बसाओ॥
तबै निरभै पद पाओ.
पाँचौ उलट धरे घर भीतर अनहद नाद बाजाओ.
सब बकवाद दूर तज दीजै ज्ञान-गीत नित गाओ॥
पिया के मन तब ही भाओ.
तीनो ताप तीन गुण त्यागो, संसा सोक नसाओ.
कहे प्रतापकुँवरि हित चित सों फेर जनम नहिं पाओ॥
जोत में जोत मिलाओ.