भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

होलोकॉस्ट / निकानोर पार्रा / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

होलोकॉस्ट – नाज़ियों द्वारा यहूदियों का क़त्लेआम

दुनिया में कुछ भी अपने बल पर नहीं होता :
दादाइज़्म
क्युबिज़्म
सुर्रियलिज़्म
आत्मा की घुटकर हार

जो आता है
जो पहले आया था उसका तार्किक परिणाम है

अँग्रेज़ी से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य