भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हो जाओ हो जाओ दयाल महामाई अबकी बेर / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

हो जाओ हो जाओ दयाल महामाई अबकी बेर
सोरह गऊ के मैया गोबर मंगाये मोरी माता
तो रुच-रुच भुवन लिपाये मोरी माता
तो मुतियन चौक पुराये मोरी माता
तो चंदन के पलना डराये मोरी माता।
अबकी बेर
चंदन पटरी डराओ मोरी माता
चौमुख दिया जलाओ मोरी माता
अबकी बेर
अपने ललन खों कंठ लगायें मोरी माता
अबकी बेर