भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हो सकता है मैंने गिराया हो / मुइसेर येनिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वहाँ, उस बास्केट में रखा है
मेरा टहलना
बचपन
वह कवच जिसे तुमने अपने ही भीतर बिखेर दिया था

वहां चॉकलेट हैं पृथ्वी की
पृथ्वी खुद एक चॉकलेट है
यह पिघलती है, चिपक जाती है तुम्हारे
पैरों के इर्द-गिर्द

पहुँच जाती है तमाम तरह से
तमाम सड़कों तक
बचपन की

एक पेड़ अपनी सभी शाखाओं के साथ अपनी जगह पर खड़ा है
पर मेरा बचपन कहाँ है ?