भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ॿिजु, चिणिंग ऐं साहु / सतीश रोहड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मां हिकु ॿिजु
हिक चिणिंग
हिकु अकेलो साहु आहियां।

चौतरफ़ मुंहिंजे फहलियल आहिनि
मिटीअ, ऊंदहि ऐं
मौत जा ज़र्रा;
जेके चाहीनि था मूंखे
मिटाइण, विसाइणु ऐं नासु करणु।
पर नथा ॼाणनि उहे
मां आहियां अमिट

मां महज़ हिकु ॿिजु नाहियां
मुंहिंजे अन्दर समायल आ
समूरी वणराह, जेका
हिननि मिटीअ जे ज़रिड़नि खां,
मिटिजण जी नाहे।
मां महज़ हिक चिणिंग नाहियां
मां हिस्सो आहियां
उन अमर आग जो
जा जलाए भस्म करे सघन्दी आहे
जबलनि खे,
सुकाए सघन्दी आहे
समुंडनि खे
ऐं अकेलो साहु मुंहिंजो
को अकेलो साहु कोन्हे
हीअ कड़ी आहे
उन सिलसिले जी
सिलसिलो-जेको आदम खां शुरू थी
मूं सां अची जुड़े थो,
ऐं उन सिलसिले खे ख़तम करण जी ताक़त
अजु/ सिलसिलो शुरू कन्दड़ में बि कान्हे।
मां हिकु ॿिजु
हिक चिणिंग
हिकु अकेलो साहु आहियां।

(रचना- 97, 2003)