भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

’को’ के द्वारा कविता / जय गोस्वामी / रामशंकर द्विवेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

‘को’ के द्वारा क्या कुछ लिखा जा सकता है ?
इस युग में ? अभी ?
यही लो जैसे लालटेन —

कहा जा सकता है, लालटेन के पास क्या तुम बैठी नहीं हो ?
पूर्ण गोल-गोल चन्द्रमा के नीचे
क्या देख नहीं रही हो झाऊ की गाछ कतार-दर-कतार ?
मेरे यहाँ आकर कुर्सी पर बैठते ही
क्या नहीं कहा, किसे आज जल्दी-जल्दी
घर जाना होगा ?

इस तरह से ‘को’ के द्वारा अगर बातचीत करते हैं
इस शून्य दशक के बच्चे - बच्चियाँ,

तुम कितनी हंसी उड़ाओगे ? उड़ाओ, उड़ाओ, हंसी उड़ाओ ना !
उनसे तो मैं नहीं कहूँगा
‘को’ के द्वारा तुम्हारे लिए कविता लिखकर
कितने आनन्द से मर गया उजबक !

मूल बाँगला भाषा से अनुवाद : रामशंकर द्विवेदी