भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

1942 ऐ लव स्टोरी / ये सफ़र बहुत है कठिन मगर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रचनाकार: ??                 

दिल ना-उम्मीद तो नहीं, नाकाम ही तो है
लंबी है गम की शाम, मगर शाम ही तो है
ये सफ़र बहुत है कठिन मगर
ना उदास हो मेरे हमसफ़र

नहीं रहनेवाली ये मुश्किलें
कि हैं अगले मोड़ पे मंज़िलें
मेरी बात का तू यकीन कर, ना उदास ...

ये सितम की रात है ढलने को
है अन्धेरा गम का पिघलने को
ज़रा देर इस में लगे अगर, ना उदास ...

कभी ढूँढ लेगा ये कारवां
वो नई ज़मीन नया आसमां
जिसे ढूँढती है तेरी नजर, ना उदास ...