भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

72 यक्ष / वसंत जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: वसंत जोशी  » 72 यक्ष

समूह में
हिनहिना रहे हैं
72 यक्ष
मेरे इर्द-गिर्द

हिनहिनाहट से
उड़ रहे हैं फेन
थकित अश्वों के

कितनी दूरी लांघ कर पहुंचे होंगे?
फ्लेमिंगो जैसे श्वेत
मानो देव-दूत

तीर-कमान की जगह
बंदूकें होंगी
उनके कांधों पर
रुके यहीं
रुकेंगे या आगे जाएंगे
मालूम नहीं

टेकरी चढ़ने के बाद
उतरने में असमर्थ
श्रद्धा में कैद
शृखलित
थकित
श्वेत 72 यक्ष
पंक्तिबद्ध समूह में


अनुवाद : नीरज दइया