भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"अ" अनार का पाठ / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:18, 29 मार्च 2020 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रभुदयाल श्रीवास्तव |अनुवादक= |स...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

"अ" अनार का पाठ सीख ले,
प्यारी चिड़िया रानी।
कविता लिखना, गजलें कहना,
सीख अरी महारानी।

पढ़ने-लिखने से सीखेगी,
तू भी दुनियादारी।
अनपढ़ है री अरी चिरैया,
फिरती मारी-मारी।

बोली चिड़िया अरे अनाड़ी,

मैं बचपन से शायर।
सुना नहीं क्या चूं-चूं, चीं-चीं,
चों-चों का मेरा स्वर।

जब हम सब कोरस में गाते,
सुन्दर मीठे गाने।
पेड़ों के पत्ते लग जाते,
ताली मधुर बजाने।

पाठ तुम्हें पुस्तक वाले ही,
बच्चों सदा सुहाते।
अरे मुझे तो गणित गगन से,
धरती तक के आते।