भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

'दयादासि' हरि नाम लै, या जग में यह सार / दयाबाई

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:40, 30 जुलाई 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=दयाबाई |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatPad}} <poem>...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 'दयादासि' हरि नाम लै, या जग में यह सार।
हरि भजते हरि ही भये, पायो भेद अपार॥
सोवत जागत हरि भजो, हरि हिरदै न बिसार।
डोरा गहि हरि नाम की, 'दया' न टूटै तार।
नारायन नर देह में, पैयत हैं ततकाल।
सतसंगति हरि भजन सूँ, काढ़ो तृस्ना व्याल॥
दया नाव हरि नाम को, सतगुरु खेवन हार।
साधू जन के संग मिलि, तिरत न लागै वार॥