भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

'भक्त' नाम लगता अति प्यारा / हनुमानप्रसाद पोद्दार

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:53, 3 जनवरी 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=हनुमानप्रसाद पोद्दार |अनुवादक= |स...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

‘भक्त’ नाम लगता अति प्यारा, भक्ति सहज ही भाती है।
लोगोंकी चर्चा कि ‘भक्त यह’ मनको बहुत सुहाती है॥
‘भक्त-भक्ति’के गुण-कीर्तनमें जिह्वा भी ललचाती है।
किंतु भक्तकी ‘जीवनचर्या’ जीवनमें नहिं आती है॥
भक्त जगत्‌‌का मोह त्याग सब, करते तुमसे अविरल प्रीति।
बनकर रसिक विराग-रागके, नित्य निभाते रसकी रीति॥
सभी छोडक़र सबमें रहते, करके ग्रहण अनोखी नीति।
सदा तुम्हें सर्वत्र देखते, कभी कहीं न मानते भीति॥
देख तुम्हें निज मन-मन्दिरमें पल-पलमें प्रमुदित होते।
केवल तुम्हें रिझानेको खाते-पीते, जगते-सोते॥
संतत स्मरण-परायण रहते, क्षणभर व्यर्थ नहीं खोते।
प्रेम-वारि सिचनकर, नित्य तुम्हारे चरण-कमल धोते॥