भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अँधी ठकुरौती / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 10:36, 11 जुलाई 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= कुमार रवींद्र |संग्रह=आहत हैं वन / कुमार रवींद्…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

'लाठी की भैंस'
         यही फिर हुई कसौटी
तोड़ रही चौखट को अँधी ठकुरौती
 
कभी हुई 'बेलची' यह
और कभी 'देवली'
काँप रही घर-घर
संबंधों की देहली
 
घर सभी मसान हुए - बज रही जुझौती
 
गली-गली फिरती है
ताकत चंगेज़ी
हँसती बेशरमी से
वहशी ख़ूँरेज़ी
 
गाँव-गाँव कथा वही -टूटती कठौती
 
कल थी बंदूक चली
लाश हुआ भोला
उस दिन से काँप रहा है
हरिजन टोला
 
गाँधी को 'पिपरा की है खुली चुनौती