भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अँधे हुए किनारे / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 10:26, 11 जुलाई 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बूढ़े सागर- अँधे हुए किनारे
नाव पुरानी हम किस घाट उतारें
 
सहते-सहते
डर-तूफ़ान-थपेड़े
जल-समाधि ले गए
हज़ारों बेड़े
 
हर घटना के सीने में मँझधारें
नाव पुरानी हम किस घाट उतारें
 
बार-बार हैं आतीं
छली हवाएँ
दिन भर
बातें करतीं हैं संध्याएँ
 
रात अकेली- थकी हुई पतवारें
नाव पुरानी हम किस घाट उतारें
 
बाँहों में थामे
आकाशी सपने
टूट गए हैं
सारे चप्पू अपने
 
दूर-दूर से छलती हैं मीनारें
नाव पुरानी हम किस घाट उतारें