Last modified on 4 अगस्त 2017, at 19:48

अंजुली भर किरण मैंने बस माँगी थी / अमरेन्द्र

Rahul Shivay (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:48, 4 अगस्त 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अमरेन्द्र |अनुवादक= |संग्रह=मन गो...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

अंजुली भर किरण मैंने बस माँगी थी
तुमने आँगन मेरा भर दिया प्यार से।

अब तो दुनिया ये लगती है इक दीप-सी
सुख के मोती लिए सौ, हुई सीप-सी
तुमने मुरली को क्या छू दिया हाथ से
सूखी यमुना उफनती है रस-धार से।

मेरी आँखंे थीं चंचल लहर की तरह
पेड़ से लटके पन्नी के घर की तरह
अब से आँखें अजन्ता-गुफा बन गईं
बस गई तुम जो मूरत के आकार से।

मेरी साँसों की लय ये सुगन्धित हुई
उम्र किसके अराधन में अर्पित हुई
कौन बेली, चमेली, जुही की सुगन्ध
भर गई मेरे आँगन में सहकार से।

तुमने छूके मुझे ऐसा अनुभव दिया
एक पत्थर था, पल में ही पारस किया
शूल-से जो चुभे थे पहर, कल तलक
ये दिवस-रात लगते हैं कचनार-से।