भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंबे तो खबं बळे रे दिवला / मालवी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:01, 29 अप्रैल 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=मालवी }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अंबे तो खबं बळे रे दिवला
जाणू चतुरभुज जनमियां
जुग-जुग जिवजो दाई हमारा
आतो-सो दीनड़ झेलियो
जुग-जुग जीवजो सासू हमारा
दस दन कुंवर खेलाविया
जुग-जुग जीवजो जेठाणी हमारा
चखेत फूंको मेलियो
जुग-जुग जीवजो देराणी हमारा
कंवळे खाट बिछाविया
जुग-जुग जीवजो नणांद हमारा
कूका ने झगल्यो लाविया
कूका ने झूल टोपी लाविया
जुग जुग जीवजो ढ़ोली हमारा
अंगणा में ढ़ोल घोराविया
जुग जुग जीवजो पड़ोसण हमारा
दस दन मंगल गाविया
जुग जुग जोशी हमारा
कूका को नाम धराविया।