Last modified on 30 जून 2015, at 13:18

अकेलेपन की कविता / ओरहान वेली

अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:18, 30 जून 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=ओरहान वेली |अनुवादक=सिद्धेश्वर स...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

जो
अकेले नहीं रहते कभी
उन्हें क्या पता
कि चुप्पी हो सकती है
किसी के लिए
कितनी भयावह

कैसे कोई
ख़ुद से ही करता है
वार्तालाप
कैसे कोई
दौड़ लगाता है
आईनों की ओर

किसी अस्तित्व के लिए
तड़प के मायने,
नहीं जानते वे,
नहीं, बिल्कुल नहीं।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सिद्धेश्वर सिंह