भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अकेले रह गये दिन / पंख बिखरे रेत पर / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:19, 15 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=कुमार रवींद्र |अनुवादक= |संग्रह=प...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कई दिन
उत्सव हुए थे
फिर अकेले रह गये दिन
 
धूप उजली
साथ लेकर आयी थीं
नीली हवाएँ
उठीं-चल दीं
छोड़कर फिर
धुएँ की अंधी गुफाएँ
 
पंख उड़कर
जा रहे हैं
नीड़ से यह कह गये दिन
 
एक आँधी
घूमती है रात-दिन
बीमार घर में
थके चेहरे ऊँघते हैं
बात करते
दोपहर में
 
जिस तरह
दीवार पिछली
उस तरह ही ढह गये दिन