भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"अखबारों में / शशि पुरवार" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(*//नवगीत//*)
 
पंक्ति 6: पंक्ति 6:
 
}}
 
}}
 
{{KKCatNavgeet}}
 
{{KKCatNavgeet}}
{{KKCatMahilaRachnakaar}}
 
 
{{KKCatMadhyaPradesh}}
 
{{KKCatMadhyaPradesh}}
 
<poem>
 
<poem>

13:23, 11 दिसम्बर 2017 के समय का अवतरण

हस्ताक्षर की कही कहानी
चुपके से गलियारों ने
मिर्च मसाला, बनती खबरे
छपी सुबह अखबारों में।

राजमहल में बसी रौशनी
भारी भरकम खर्चा है
महँगाई ने बाँह मरोड़ी
झोपड़ियों की चर्चा है

रक्षक भक्षक बन बैठे है
खुले आम दरबारों में।

अपनेपन की नदियाँ सूखी,
सूखा खून शिराओं में
रूखे रूखे आखर झरते
कंकर फँसा निगाहों में
बनावटी है मीठी वाणी
उदासीन व्यवहारों में।

किस पतंग की डोर कटी है
किसने पेंच लडाये है
दांव पेंच के बनते जाले
सभ्यता पर घिर आए है

आँखे गड़ी हुई खिड़की पर
होठ नये आकारों में।