भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अखरोट का पेड़ / नाज़िम हिक़मत / अनिल जनविजय

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:42, 11 अक्टूबर 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=नाज़िम हिक़मत |अनुवादक=अनिल जनवि...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

झाग का बादल है मेरा सिर और मेरी छाती में समुद्र है
मैं गुलख़ान पार्क में खड़ा अखरोट का पेड़ हूँ
बड़ा हो गया हूँ बहुत, पुराना हूँ
देखिए, मेरी डगालें फैली हैं चारों तरफ़
लेकिन न तो पुलिस मेरे बारे में कुछ जानती है, न ही आप

गुलख़ान पार्क में खड़ा अखरोट का पेड़ हूँ मैं
मछलियों की तरह काँपती हैं मेरी पत्तियाँ
सुबह से शाम तक और रात भर
रेशमी रुमाल की तरह सरसराती हैं, भरभराती हैं
अरी प्यारे, तोड़ ले हमें और अपने आँसू पोंछ ले

ये पत्तियाँ हीं मेरे हाथ हैं, एक लाख हरे हाथ
अपने एक लाख हरे हाथ फैलाकर, मैं तुम्हें छूता हूँ इस्ताम्बूल
मेरी पत्तियाँ मेरी आँखें हैं. जिनसे मैं चारों तरफ़ देखता हूँ
अपनी लाखों आँखों से निहारता हूँ
निहारता हूँ तुम्हें इस्ताम्बूल

मेरी पत्तियाँ धड़कती हैं एक लाख दिलों की तरह
मैं गुलख़ान पार्क में खड़ा अखरोट का पेड़ हूँ
लेकिन न तो पुलिस मेरे बारे में कुछ जानती है, न ही आप

रूसी से अनुवाद : अनिल जनविजय