भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अगर आप होते भुलाने के क़ाबिल / मधुभूषण शर्मा 'मधुर'

Kavita Kosh से
द्विजेन्द्र द्विज (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:29, 4 जून 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मधुभूषण शर्मा 'मधुर' }} {{KKCatGhazal}} <poem> अगर आप ह…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

                       अगर आप होते भुलाने के क़ाबिल ,
                       तो होते कहां दिल लगाने के क़ाबिल !

                       वो वादा तुम्हारा , भरोसा हमारा ,
                       लगे कब हमें टूट जाने के क़ाबिल !

                       बसी है जो आंखों में तस्वीर तेरी ,
                       नहीं आंसुयों से मिटाने के क़ाबिल !

                       अँधेरे जुदाई के कुछ कम तो होते ,
                       जो होते तेरे ख़त जलाने के क़ाबिल !

                       मुहब्बत की शायद हक़ीक़त यही है ,
                       कि शै है ये सपने सजाने के क़ाबिल !

                       सनम मुझ को मंज़ूर मरना ख़ुशी से ,
                       बने मौत लेकिन फ़साने के क़ाबिल !