भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अगर कहीं... / योगेन्द्र दत्त शर्मा

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:09, 29 जून 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=योगेन्द्र दत्त शर्मा |अनुवादक= |स...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अगर पेड़ पर लटकी होतीं
रंग-बिरंगी मछली,
तो मैं उनसे बातंे करता
ढेरों अगली-पिछली!

अगर नदी में सेब, संतरा
या अनार ही उगता,
तो मैं बीच धार में जाकर
उसके दाने चुगता!
चंदा गोल न होकर
कुछ चौकोर अगर हो जाता,
तो मैं उसमें डोर बाँधकर खूब पतंग उड़ाता!

सूरज अगर कहीं बन जाता
एक बर्फ का गोला,
तो मैं उसको तोड़-तोड़कर
भरता अपना झोला!

बादल कोई आसमान से
नीचे अगर उतरता,
तो मैं उसका रथ बनवाकर
खूब सवारी करता!

लेकिन मन का चाहा
पूरा भला कहीं हो पाता?
आखिर अपना मन मसोसकर
मैं बैठा रह जाता!