भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अगर किसी ने कहा होता / निकोलस गियेन / गिरधर राठी

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:15, 31 जनवरी 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna {{KKAnooditRachna |रचनाकार=निकोलस गियेन |अनुवादक=गिर...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

{{KKRachna

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: निकोलस गियेन  » अगर किसी ने कहा होता / निकोलस गियेन

अगर किसी ने कहा होता मुझसे
कि आएगा एक दिन ऐसा
जब हम-तुम होंगे
महज़ दो दोस्त और कुछ नहीं,
मैंने न किया होता
इस पर विश्वास ।

कि हम देखे जाएँगे कभी
उदासीन बतियाते
सूरज के बारे में, बारिश के बारे में,
जैसे दो महज़ दोस्त,
मैंने न किया होता
इस पर विश्वास ।

आह, यह कैसी कटार है महीन
घाव से जिसके बहता रक्त
मैं मरता जाता हूँ ...
कहा होता अगर किसी ने,
किया न होता मैंने
विश्वास ।

अँग्रेज़ी भाषा से अनुवाद : गिरधर राठी