भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अगर नहीं आज... / जय गोस्वामी

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:05, 2 जनवरी 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKRachna |रचनाकार=जय गोस्वामी |संग्रह= }} {{KKCatKavita‎}} <Poem> दर्शक, देखो उस माँ को,…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दर्शक,
देखो उस माँ को, जो
सीने से बच्चे को चिपकाए
अपना बलात्कार रोकने का प्रयास
कर रही है...

देखो, उनलोगों ने छीन लिया उसके बच्चे को,
उसके सर को मुठ्ठी में पकड़
घुमाया दो-ढाई बार,
टूट गई उसकी गरदन
फिर उस तिलमिलाते पुतले को
फेंक दिया नदी में

खड़े-खड़े यह दृश्य तुमने देखा
मैंने भी

इसके बाद किसी के पदत्याग की मांग करने से
मिलना क्या है?

अगर आज नहीं वापस ला सके
उन तमाम गाँवों को
जो श्मशान में तबदील हो गए,
अगर आज नहीं इकट्ठा कर सके
उन तमाम रुलाइयों को
जो सूख गईं,
अगर नहीं आज उनका एक स्तूप बन सके
अगर नहीं आज सारे शोक, जो सहम गए
एक चिनगारी बन
विस्फोट कर सकें?


   
बांग्ला से अनुवाद : विश्वजीत सेन