भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अचक आय अँगुरी पकरी / ब्रजभाषा

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:43, 27 नवम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=ब्रजभाष...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

जाने कैसी करी अचक आय अँगुरी पकरी॥ टेक
अँगुरी पकर मेरी पहुँचौ पकर्यौ,
अब कित जाऊँ गिरारौ सकरौ।
मिलवे की लागी धक री॥ जानै.

जो सुनि पावेगी सास हमारी,
नित उठि रार मचावेगी भारी।
मोतिन सौं भरी माँग बिगरी॥ जानै.

श्री मुख चन्द्र कमरिया बारौ,
सालिगराम प्रानन कौ प्यारौ।
अन्तर कौ कारौ कपटी॥ जानै.