भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अचरज को देखा है / सुनो तथागत / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:08, 11 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=कुमार रवींद्र |अनुवादक= |संग्रह=स...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या तुमने कल के सूरज को देखा है
 
वही जिसे गांधारी ने
था रात बरा
उस बेला में था
सोना यह शुद्ध खरा
 
हमने आदिम उस अचरज को देखा है
 
वही घड़ी थी
जब बोले थे पत्थर भी
धन्य हुए थे देख दृश्य
पूजाघर भी
 
हमने उस पावन पदरज को देखा है
 
लाँघ पहाड़ों को
सूरज वह आया था
उसकी ही अंजुरी में
सिंधु समाया था
 
हमने उस दहके कुंभज को देखा है