भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अजब-गज़ब / सुकुमार राय

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 05:58, 11 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सुकुमार राय |अनुवादक=शिव किशोर ति...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भाई, सुनो, सुनो तो ! रहता वाँ हक़ीम जो बूढ़ा,
सुना है हाथ से खाना खाता, हम तुम सा ही पूरा !

सारे दिन भोजन न मिले तो भूख उसे लग जाती,
आँखें उसकी मुँदने लगतीं नींद उसे जब आती।

चलते हुए सदा पाँवों को धरती पर ही धरता,
देखा हरदम आँखों से ही, सुना कान से करता।

सोता है जब, अपने सिर को रखता है सिरहाने,
चलों देखकर खु़द आते हैं, सुनकर कैसे मानें ?

सुकुमार राय की कविता : अबाक काण्ड (অবাক কাণ্ড) का अनुवाद
शिव किशोर तिवारी द्वारा मूल बांग्ला से अनूदित