भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अजब मअरका / राशिद जमाल

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:32, 24 नवम्बर 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=राशिद जमाल |संग्रह= }} {{KKCatNazm}}‎ <poem> ये म...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये मअरका भी अजब है
कि जिस से लड़ता हूँ
वो मैं ही ख़ुद हूँ
रजज़ मिरा
मिरे दुश्मन के हक़ में जाता है
जो चल रहे हैं वो तीर ओ तुफ़ंग अपने हैं
जो काटते हैं वो सामान जंग अपने हैं
मैं सुर्ख़-रू हूँ तो ख़ुद अपने ख़ूँ की रंग से
मैं आश्ना हूँ
ख़ुद ईज़ा-दही की लज़्ज़त से
अजीब जंग मिरे अंदरूँ में चिड़ती है
मिरी अना मिरी बे-माएगी से लड़ती है
मैं बे-ज़रर हूँ
बस अपने सिवा सभी के लिए