भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"अतुल अनन्त अचिन्त्य / हनुमानप्रसाद पोद्दार" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=हनुमानप्रसाद पोद्दार |अनुवादक= |...' के साथ नया पन्ना बनाया)
 
 
पंक्ति 6: पंक्ति 6:
 
}}  
 
}}  
 
{{KKCatPad}}  
 
{{KKCatPad}}  
<poem>अतुल अनन्त अचिन्त्य सद्‌‌गुणों के शुचितम शुभ आकर।
+
<poem>
असुर-दैत्य-तम-निशा-विनाशक रवि-कुल-कमल-दिवाकर॥
+
अतुल अनन्त अचिन्त्य सद्‌‌गुणों के शुचितम शुभ आकर।
 +
          असुर-दैत्य-तम-निशा-विनाशक रवि-कुल-कमल-दिवाकर॥
 
साधु-धर्म-संरक्षण-संबर्धन-हित नित्य धनुर्धर।
 
साधु-धर्म-संरक्षण-संबर्धन-हित नित्य धनुर्धर।
अखिल विश्वगत प्राणिमात्र के सहज समर्थ सुहृदवर॥
+
          अखिल विश्वगत प्राणिमात्र के सहज समर्थ सुहृदवर॥
 
मात-पिता-गुरुभक्ति अनुत्तम भ्रातृ-स्नेह-रत्नाकर।
 
मात-पिता-गुरुभक्ति अनुत्तम भ्रातृ-स्नेह-रत्नाकर।
राम स्वयं भगवान अकारण-करुण भक्त-भव-भयहर॥
+
            राम स्वयं भगवान अकारण-करुण भक्त-भव-भयहर॥
 
</poem>
 
</poem>

11:30, 10 जुलाई 2014 के समय का अवतरण

अतुल अनन्त अचिन्त्य सद्‌‌गुणों के शुचितम शुभ आकर।
           असुर-दैत्य-तम-निशा-विनाशक रवि-कुल-कमल-दिवाकर॥
साधु-धर्म-संरक्षण-संबर्धन-हित नित्य धनुर्धर।
           अखिल विश्वगत प्राणिमात्र के सहज समर्थ सुहृदवर॥
मात-पिता-गुरुभक्ति अनुत्तम भ्रातृ-स्नेह-रत्नाकर।
            राम स्वयं भगवान अकारण-करुण भक्त-भव-भयहर॥