भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अध्यात्म 2 / शब्द प्रकाश / धरनीदास

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 04:33, 20 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धरनीदास |अनुवादक= |संग्रह=शब्द प्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पूर्व पगु पर्त पुरुषोत्तमहि पन्थ जनु, पछिम परतच्छ रनछोर घोरे।
दछिन रमता है रमनाथ के साथ जनु, उतर फिरता है बद्रीश जोँरे॥
दास धरनी कहत साधु संगति रहत, भवन के भीतरे मौन वौरे।
करै विलछानि जेहि आनि सतगुरु मिले, कहो नहि जात यहि वात मोरे॥9॥