भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अनुरोध / हरमन हेस

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 00:14, 4 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=हरमन हेस |अनुवादक=प्रतिभा उपाध्य...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब देती हो तुम मुझे अपना छोटा हाथ
जो बताता है इतना अधिक अनकहा
क्या मैंने तुमसे पूछा कभी
कि तुम मुझे प्यार करती हो ?

मैं नहीं चाहता कि तुम प्यार करो मुझे
मैं बस इतना चाहता हूँ कि मैं तुम्हें जानूँ नज़दीक से
और कभी-कभी तुम ख़ामोश और धीरे से
अपना हाथ मुझे दे दो II

मूल जर्मन भाषा से अनुवाद : प्रतिभा उपाध्याय