भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अन्त-विहीन, अनादि, नित्य / हनुमानप्रसाद पोद्दार

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:05, 6 मार्च 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=हनुमानप्रसाद पोद्दार |अनुवादक= |स...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अन्त-विहीन, अनादि, नित्य हम दोनों एक सनातन-रूप।
बने सदा दो लीला करते, सहज अनन्त अचिन्त्य-‌अनूप॥
नित्य पुरातन, नित नूतन हम, सदा एकरस, एक अभिन्न।
पर भिन्नतामयी रस-लीला-धारा बहती नित अविछिन्न॥
सुखमय मिलन सहज, नित दारुण विरह-वियोग नित्य उर दाह।
नित्य मधुर-मृदु-हास्य-मनोहर, करुण-रुदन नित आह-कराह॥
है अनादि क्रन्दन यह मेरा, हैं अनन्त सुखमय दुख-भार।
अमिलन-मिलन, मिलन-‌अमिलन नित परम अतर्क मधुर सुख-सार॥