भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"अपना शहर / मख़दूम मोहिउद्दीन" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मख़दूम मोहिउद्दीन |संग्रह=बिसात-ए-रक़्स / मख़दू…)
 
 
पंक्ति 7: पंक्ति 7:
 
<poem>
 
<poem>
 
ये शहर अपना
 
ये शहर अपना
 
+
अजब शहर है के
अजाब शहर है के
+
 
+
 
रातों में  
 
रातों में  
 
 
सड़क पे चलिए तो
 
सड़क पे चलिए तो
 
 
सरगोशियाँ सी करता है
 
सरगोशियाँ सी करता है
  
 
वो लाके ज़ख्म दिखाता है
 
वो लाके ज़ख्म दिखाता है
 
 
राजे दिल की तरह
 
राजे दिल की तरह
 
 
दरीचे बंद
 
दरीचे बंद
 
 
गली चुप
 
गली चुप
 
 
निढाल दीवारें
 
निढाल दीवारें
 
 
कोढ़ा मोहरें-ब-लब
 
कोढ़ा मोहरें-ब-लब
 
 
घरों में मैय्यतें ठहरी हुई हैं बरसों से
 
घरों में मैय्यतें ठहरी हुई हैं बरसों से
 
 
किराए पर  
 
किराए पर  
 
</poem>
 
</poem>

08:36, 28 अप्रैल 2011 के समय का अवतरण

ये शहर अपना
अजब शहर है के
रातों में
सड़क पे चलिए तो
सरगोशियाँ सी करता है

वो लाके ज़ख्म दिखाता है
राजे दिल की तरह
दरीचे बंद
गली चुप
निढाल दीवारें
कोढ़ा मोहरें-ब-लब
घरों में मैय्यतें ठहरी हुई हैं बरसों से
किराए पर