भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपनी मीरा से (सॉनेट) / ज़िया फतेहाबादी

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:21, 22 मार्च 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=ज़िया फतेहाबादी |संग्रह= }} {{KKCatNazm}} <poem> कहूँ मैं आह …)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कहूँ मैं आह क्यूँकर, मुझ को तुझ से प्यार है मीरा
तसव्वुर से तेरे दिन रात हमआगोश रहता हूँ
कुछ ऐसा कैफ्परवर इश्क का आज़ार है मीरा
कि इस नशे में हरदम बेखुद ओ मदहोश रहता हूँ

ना दुनिया की ख़बर मुझ को, ना अपना होश है मुझ को
बस इतना जानता हूँ, तू है, तेरी याद है मीरा
ना फ़िक्र ए आलम ए फ़र्दा, न रंज ओ दोश है मुझ को
मुहब्बत वाक़ई हर क़ैद से आज़ाद है मीरा

मैं कह तो दूँ मगर मेरा दिल ए मजबूर डरता है
कि ये जुर्रत ना बाईस हो परीशानी ओ वहशत का
यही ग़म मेरी उम्मीदों में रंग ए यास भरता है
यही ग़म रहबर है मंज़िल ए दर्द ए मुहब्बत का

तुझे मालूम ही है मेरे दिल पर क्या गुज़रती है
तो फिर क्यूँ इम्तिहान लेकर मुझे नाकाम करती है