भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपने आँसू लौटा लो / श्यामनन्दन किशोर

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 00:39, 27 अक्टूबर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=श्यामनन्दन किशोर |अनुवादक= |संग्र...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आँसू को तुम तोल सकोगी?

अपनी पलकों पर क्या मेरे
आँसू को तुम तोल सकोगी?

नापा गया किरण के कर से
धीर समुन्दर का कब पानी?
बता सकी कब जलन बादलों
की बिजली की क्षणिक जवानी?

मेरी अकथ व्यथा को क्या तुम
तुतले स्वर से बाल सकोगी?

क्या पहचाने निशा उषा-
अधरों पर बलिदानों की लाली?

बाँध सकी कब ज्योति-धार को
अपने बन्धन में अँधियाली?

अपने अज्ञानों से मेरा
क्या रहस्य तुम खोल सकोगी?

जो न भुला दे सुध-बुध तन की
वह जादू से भरा गीत क्या?
मैं न मानता प्रीत, कि जिसमें
हृदय सजग हो हार-जीत का।
अपनी चेतनता से मेरी
दुर्बलता ले मोल सकोगी?