भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपने भले-बुरे का पूरा दे दो / हनुमानप्रसाद पोद्दार

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:20, 9 जून 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=हनुमानप्रसाद पोद्दार |अनुवादक= |स...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

(राग जंगला-ताल कहरवा)

अपने भले-बुरे का पूरा दे दो प्रभु को ही अधिकार।
जीवन में होने दो सब स्वच्छन्द उन्हीं के मन-‌अनुसार॥
करते रहो सचेत कर्म शुभ उनकी ही रुचिके अनुकूल।
कर्म-कर्मफलमें न रखो आसक्ति तनिक भी मनमें भूल॥
प्रभुकी सेवारूप करो प्रत्येक कार्य, रखकर विश्वास।
भय-विषाद सब छोड़, रखो नित मनमें निर्भयता-‌उल्लास॥