भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब अंजोर होही / लूथर मसीह

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:49, 14 अगस्त 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=लूथर मसीह |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatChhatt...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चारों मुड़ा अंधियार
अउ सन्नाटा मं

सुते रहिस छत्तीसगढ़ माई पिल्ला
दिया मं अभी तेल हावय

धीरे धीरे सूकवा उवत हे
पहाटिया के आरो होगे हे

ओखर लउठी के ठक ठक
बिहान होए के संदेशा
अब---

छत्तीसगढ़ के आंखी उघरत हे
अपन अधिकार बार लड़त हे

छत्तीसगढ़ मं
अब अंजोर होही
अब अंजोर होही ॥