भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब कोई दोस्त नया क्या करना / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:53, 15 दिसम्बर 2010 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब कोई दोस्त नया क्या करना
भर गया ज़ख्म हरा क्या करना

उस से अब ज़िक्रे-वफ़ा क्या करना
हौसला हार गया क्या करना

वो भी दुश्मन तो नहीं है अपना
अपने ही हक में दुआ क्या करना

याद जो आये भुलाते रहना
अब हमें इस के सिवा क्या करना

शोर कितना था सुनाता किस को
और अब शोर बपा क्या करना

जिस को मुँह का भी कहा याद नहीं
उस के हाथों का लिखा क्या करना

जब तू ही मिल न सका मुझ को 'निज़ाम'
मिल गई खल्क़े ख़ुदा क्या करना