भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब तजि आस आसु-तोस गये भारत ने / नाथ कवि

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:15, 18 जनवरी 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=नाथ कवि |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatBrajBhashaRa...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब तजि आस आसु-तोस गये भारत ने,
जाय यूरोप रक्त सरिता निहारी है।
तीसरौ उधार नैन देखत तमासौ नाथ,
टैंक तारपीडो और बिमान तोप भारी हैं॥
भारत ते पीछें न भयौ है विश्व-ब्यापी युद्ध,
लन्दन जापान औ अमेरिका की बारी है।
कहत सुरवृन्द धन्य वीर या चर्चिल को,
लडत्रत खूब दुश्मन ते मानत न हारी है॥