भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अभी तो वक़्त का काफ़ी हिसाब बाक़ी है / कैलाश मनहर

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:01, 17 जुलाई 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=कैलाश मनहर |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatGha...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अभी तो वक़्त का काफ़ी हिसाब बाक़ी है ।
हमें जो पढ़नी है असली किताब बाक़ी है ।

इन्हें सम्भाल कर रखूँगा ग़ुम न जाएँ कहीं,
ख़राबियाँ जो अब देंगी ख़िताब बाक़ी है ।

तेरा गुरूर भी तोड़ेगी आबरू मेरी,
अभी तो आख़िरी जाम-ए-शराब बाक़ी है I

अभी गिरफ़्त में है मुल्क़ तानाशाही की,
कितना जाने अभी ख़ाना ख़राब बाक़ी है ।

तमाम उम्र तेरे जुल्म सहे हैं मैंने,
याद रखना अभी मेरा जवाब बाक़ी है ।

तेरे माफ़िक हैं हवाएँ अभी सही है मगर,
दिलों में मचल रहा इन्क़लाब बाक़ी है ।