भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"अभ्यास / अनीता अग्रवाल" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= अनीता अग्रवाल |संग्रह= }} <poem> रिक्शे वाला आता है र…)
 
पंक्ति 13: पंक्ति 13:
 
सोचती हूं
 
सोचती हूं
 
रिक्शे वाले के बारे में
 
रिक्शे वाले के बारे में
उसे धूप से बचाने का
+
उसे धूप से बचने का
 
एक अभ्यास सा बन गया है।
 
एक अभ्यास सा बन गया है।
 
</poem>
 
</poem>

14:06, 7 सितम्बर 2011 का अवतरण

रिक्शे वाला
आता है
रिक्शे में बैठकर
धूप से पीछा छुड़ाती हूं
बैठते हुए भी
बैठने से कतराती हूं
सोचती हूं
रिक्शे वाले के बारे में
उसे धूप से बचने का
एक अभ्यास सा बन गया है।