भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अमानत / पवन कुमार

Kavita Kosh से
Mani Gupta (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 08:34, 27 अप्रैल 2013 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

परत-दर-पर
तह-ब-तह
ज़िन्दगी-ज़िन्दगी...।
यही इक अमानत
मुझे बख़्शी है
मेरे खुदा ने।
इसी में से
ये ज़िन्दगी
यानी ये उम्र अपनी
तेरे नाम कर दी है मैंने।
मगर सुन ज़रा
यह तो बस पेशगी है,
जो तू हां कहे तो
यह सारी अमानत
तेरे नाम
कर दूँ।