भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अमृत नीका, कहै सब कोई / दरिया साहब

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:20, 23 मई 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=दरिया साहब |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatPad...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अमृत नीका, कहै सब कोई, पिये बिना अमर नहिं होई।
कोइ कहै, अमृत बसै पताल, नर्क अन्त नित ग्रासै काल॥
कोइ कहै, अमृत समुन्दर माहीं, बड़वा अगिनि क्यों सोखत ताहीं?
कोइ कहै, अमृत ससिमें बास, घटै-बढ़ै क्यों होइहै नास?
कोइ कहै, अमृत सुरगाँ, माहिं, देव पियें क्यों खिर-खिर जाहिं?
सब अमृत बातोंका बात, अमृत है संतन के साथ।
'दरिया' अमृत नाम अनंत, जाको पी-पी अमर भये संत॥