भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अम्बिन तैं अम्बर तैं / किशोर

Kavita Kosh से
Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:18, 6 अगस्त 2009 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=किशोर }} Category:पद <poeM>अम्बिन तैं अम्बर तैं, द्रुमनि ...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अम्बिन तैं अम्बर तैं, द्रुमनि दिगम्बर तैं
अपर अडंबर तैं, सखि सरसो परै।

कोकिल की कूकन तैं, हियन की कन तैं,
अतन भभूकन तैं, तन परसो परै॥

कहत 'किसोर', कंज पुंजन तैं, कुंजन तैं,
मंजु अलि गुंजन तैं, देखु दरसो परै।

बसन तैं, बासन तैं, सुमन सुबासन तैं,
बैहर तैं, बन तैं, बसंत बरसो परै॥