भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अरी बावळी दिखता, तुझमे अनुराग नहीं / कपिल भारद्वाज

Kavita Kosh से
Sandeeap Sharma (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:31, 19 जनवरी 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=कपिल भारद्वाज |अनुवादक= |संग्रह=स...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अरी बावळी दिखता, तुझमे अनुराग नहीं !

घूंघट में शरमाई आंखे, मन का कोना-कोना चहका,
झिलमिल-झिलमिल बरसे सावन, मौसम का हर कतरा महका,
क्या री भोली यौवन की, तुझमें आग नहीं,
अरी बावली दिखता, तुझमे अनुराग नहीं ।

हम तो ठहरे राही अकिंचन, नूतन पथ पर चलने वाले,
थोड़े सुख के लिए उम्र भर, टुकड़ा-टुकड़ा पलने वाले,
जीवन से भटके सपनों में भी, राग नहीं,
अरी बावली दिखता, तुझमें अनुराग नही ।

तेरी तपती काया छूकर, पानी-पानी हुआ दीवाना,
सारी रात है झूमा तन मन, जैसे कबीर बना मस्ताना,
अरी गोरिया तेरे संगीत में, साज़ नहीं,
अरी बावली दिखता, तुझमे अनुराग नहीं ।