Last modified on 9 जून 2014, at 00:08

अर्पण कर दो राम को / हनुमानप्रसाद पोद्दार

Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 00:08, 9 जून 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=हनुमानप्रसाद पोद्दार |अनुवादक= |स...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

(राग पीलू-ताल कहरवा)
 
अर्पण कर दो राम को बचे हु‌ए सब श्वास।
स्मरण करो प्रभुका सदा, मनमें भर उल्लास॥
मौत मरेगी सदाको, फिर न आयगी पास।
राम-धाममें पहँच तुम बन जा‌ओगे दास॥