भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अलप वयस दुख भारी कइसे हम खेलीब हे / धनी धरमदास

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 04:24, 21 अक्टूबर 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धनी धरमदास |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatAng...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

॥बिरहा॥

अलप वयस दुख भारी कइसे हम खेलीब हे।
सखिया! मोरा भेल बिछाह धिरज नहिं रहल हे॥1॥
कोई न मिलल अवलंब काहि गोहरायब हे।
सखिया! रैन-दिवस दुख रोई कहाँ सुख पायब हे॥2॥
सपना भेल सुख सेज दरद तब व्याकुल हे।
सखिया! रोई-रोई कजरा दहाय कमल कुम्हलायल हे॥3॥
कोईन मिलल हित मोरा बिरह से व्याकुल हे।
सखिया! तजलौं नैहर के आस, पिया संग जायब हे॥4॥
धर्मदास नहिं चैन दरस दे बिछुरि हे।
सखिया! सुधि न रहल मोरा, भींजल पट चुनरी हे॥5॥